Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana | PMKSY in Hindi | Guidelines

प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना (PMKSY) यह योजना किसानो के लिए है जिसमे भारत सरकार जिन विस्तारो में पानी कम होता है और इस वजह से Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana को launch कीया गया था| आप इस योजना की जानकारी के लिए प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना PDF का उपयोग कर सकते हो|

What Is PMKSY (प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना)?

आप सब जानते ही होगे की हमारा देश ज्यादातर कृषि पर निर्भर है| ज्यादातर लोग खेती से अपने घर की रोजी चलाते है| पर गर्मीओ में पानी की कमी की वजह से खेती करने में ज्यादा धीककत आती है|

हमारी गवर्नमेंट ने किसान की परेशानिया खत्म करने के लिए प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना को launch किया| इस योजना के तहत सभी किसानो को गर्मी के मौसम में खेती करने के लिए पानी मिलेगा|

pradhan mantri krishi sinchai yojana
pmksy

इस वजह से किसानो को गर्मी के मौसम में किसानो को खेती करने में बहुत दिक्कत आती है| इस वजह से कृषि में किसानो को नुकसान भुगतना पड़ता है|

प्रधानमंत्री सिंचाई योजना (Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana)की शुरुआत २०१५ में की गयी थी| जिसमे गवर्नमेंट ने 50 Thousand Crore रुपये बजट में निधि तय की गयी थी| इस योजना का मुख्य उद्येश कृषि को सिंचाई के वजह से होने वाले नुकशान से बचाने का था|

गर्मी की मौसम में पानी की कमी की वजह से पाक की बर्बादी होती है| पाक की बर्बादी की वजह से देश की अर्थव्यवस्था में खाध्य चीजे और किराने की चीजे बेहद महँगी होती जा रही है|

गवर्नमेंट ने इन कारणों से प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना को लागू किया जिसकी वजह से किसानो को भी नुकशान भुगतना ना पड़े और अर्थव्यवस्था में भी संतुलन रहे|

CCEA की कमिटी ने PM नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना(PMKSY) का आखिरी ओप दिया गया था|

हमारे केबिनेट में भी अरुण जेटली के द्वारा कहा गया था की 5 वर्ष के लिए कृषि के उप्तादकता बढाने के लिए ५०,००० करोड़ रुपये सिंचाई के लिए दिए गए है|

यह भी कहा गया था की यह सम्पूर्ण रुपये सिर्फ कृषि के पेदशो की उत्पादकता बढ़ाने के लिए खर्च किये जाए| और यह भी तय हुआ था की वर्तमान वित्त वर्ष में 5300 करोड़ रुपये खर्च किये जाएगे|

इसके आलावा भी गवर्नमेंट ने राज्यो की गवर्नमेंटो को भी सूचित किया था राज्य की गवर्नमेंट भी राज्यों के बजट में सिंचाई योजना को स्थान दे|

देश के अर्थशास्त्रीओ और ग्रामीण प्रबंधको का मानना है की देश में कृषि क्षेत्र की उत्पादकता बढ़ेगी और अर्थव्यवस्था में इसकी वजह से विकास होगा|

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana)के बारे में जानकारी

हमारे देश में कुल 142 मिलियन हेक्टर कृषि लायक जमीं में केवल 45 Percentage खेती के लिए ही कृत्रिम सिंचाई के लिए व्यवस्थापन है| बाकी की बची जमीं सिंचाई के लिए बरसात पर निर्भर है|

पर अगर बारिश में बरसात कम आये या देर से आये तो किसानो के लिए विपत्ति कड़ी कर देती है और इस वजह से या तो फसल बिगड़ जाती है या फिर किसानो को फसल बोने नही मिलती जिसकी वजह से उन्हें नुकशान भुगतना पड़ता है|

pmksy in hindi
pradhan mantri krishi sinchai yojana

इस योजना के तहत हमारी गवर्नमेंट ने 5300 करोड़ रुपये इस योजना में खर्च करने को कहा गया था और इसके अलावा कुल 6 लाख हेक्टर कृषि योग्य जमीं को सिंचाई उपलब्ध करवाने के लिए इस योजना के तहत लाया जाए|

इसके सिवा 5 लाख हेक्टर जमी को टपक सिंचाई का लाभ मिलेगा जिसकी वजह से किसानो को अच्छा उत्पादन मिलेगा और पानी का व्यय भी कम होता है|

इस योजना का मुख्य लक्ष्य ये ही है की जहा भी भूमि कृषि के लायक है वहा तक सिंचाइ परियोजनाऐ पहुचाई जाए जिसकी वजह से किसी भी किसान को नुकशान भुगतना न पड़े|

इस योजना के तहत जो परियोजनाओ में सुधार करने के बाद लागू की जाएगी उनके लिए सख्त नियमो वाली Guideline बनाई जाएगी और 1300 वाटर शेड की परियोजनाए भी पूर्ण की जाएगी|

इस योजना में से २०० करोड़ रुपये का उपयोग कृषि में वैज्ञानिक तरीको को बढ़ावा देने के लिए किया जाएगा| यह फण्ड Agri – Tech Infrastructure Fund (ATIF) को दिए जाएगा| ये फण्ड NAM को बढ़ावा देने के लिए दिए जाएगे|

इससे ये होगा की किसानो को आपने उत्पादनों को आसानी से बाजार तक पहुचाया जा सके| इस योजना से साथ MNREGA की Guideline  भी शामिल की जाएगी|

प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना को दो बोर्ड के हेड के निचे कम करना होता है| एक बोर्ड सेंट्रल लेवल पे NSC जिसके चेयरमैन PM होगे| और दूसरा NEC बोर्ड जिसके चेयरमेन Niti आयोग के Vice चेयरमैन नियंत्रण करेगे|

PMKSY मिशन के लिए जल संसाधन मंत्रालय,नदी विकास, अवं गंगा मरम्मत कार्यालय को नियामक कचहरी के तौर पर लिया जाता है| 99 मेजर अवं मध्यम सिंचाई परियोजनाओ को पूरा करने का जिम्मा दिया गया है|

Component Programme of PMKSY

एक्सेलरेटेड इरीगेशन बेनिफिट प्रोग्राम(AIBP) –

इस प्रोग्राम का मुख्य हेतु जो भी इरीगेशन का काम बिच में अटका हुआ है उसे जल्द से जल्द ख़त्म करवाने के लिए था जो MOWR, RD & GR के द्वारा implement किया था उसे काम को पूरा करने के लिए ये प्रोग्राम launch किया था|

What is the motto of PMKSY ?(हर खेत को पानी)

इस प्रोग्राम में अलग अलग प्रवृति होगी जिसमे मैं मुख्य लख्य इतना है की सारी कृषि योग जमीं को पानी मिले| ये प्रोग्राम इस लिए भी था की जहा सिंचाई के लिए पानी कम है वहां स्त्रोत वृध्धि और वितरण, भूजल विकास, लिफ्ट इरीगेशन के द्वारा पानी पहुचाया जाए|

इसका मुख्य हेतू ये था की जो पानी की पुरानी टंकी या फिर रित है उसे रिपेयर, रेनोवेट करवाके उसमे रेस्टोरेशन कर के पानी को बचा के ज्यादा उपयोग कर सकते है|

Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana(Per Drop More Crop)

इस प्रोग्राम में ज्यादा से ज्यादा ध्यान पानी को स्टोर करने के तरीको का उपयोग से माइक्रो स्टोरेज कर के ज्यादा पानी बचाके उसका उपयोग कर के ज्यादा उत्पादन ले सकते है| इस प्रोग्राम के तहत पानी का संग्रह करने के सूक्ष्म तरीको से संग्रह करते है|

PMKSY Watershed development

इस योजना के तहत कुछ बातो पे ध्यान केन्द्रित किया जाएगा जैसे की ड्रेनेज ट्रीटमेंट, सोइल एंड मोस्चर कन्वर्सेशन, जल संचयन संरचना और आजीविका सहायता. इस गतिविधिओ को सहायक और watershed development जैसे गतिविधियों की सहायता के लिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *