Mission Indradhanush (मिशन इंद्रधनुष ) In Hindi Details

मिशन इंद्रधनुष in hindi

मिशन इंद्रधनुष अभियान का आरंभ २५ दिसम्बर २०१४ को किया गया था और इसमें शामिल इंद्रधनुष के सात रंगो को प्रदर्शित करने वाला मिशन इंद्रधनुष का मुख्य लक्ष २०२० तक उन बच्चो का टीकाकरण करना हे. यह भी हे की जिन्हे टीके नहीं लगे हे और डिप्थेरिया, बलगम ,टिटनेस, पोलियो, तपेदिक, खसरा तथा हिपेटाइटिस बी रोकने जैसे सात टीके लगाए गए हे.

यह मिशन इंद्रधनुष कार्यक्रम हर साल ५ प्रतिशत या उससे अधिक बच्चो के संपूर्ण टीकाकरण में तेजी से विकाश के लिए विशेष अभियानों के के द्वारा चलाया जायेगा. 

इस परियोजना में पहले चरण में देश में २०१ जिल्लो की पहचान की हे. जिसमे शामिल ५० % बच्चो को टिके लगे हे या नहीं या उन्हें आंशिक रूप से टिके लगाए गए हे , और इन जिल्लो को नियमित रूप से टीकाकरण की स्थिति को सुधारने के लिए एक लक्ष्य बनाया जायेगा. 

मंत्रालय के कहने मुजब २०१ जिल्लो में से ८२ जिल्ले केवल चार राज्य उत्तरप्रदेश , बिहार, मध्य प्रदेश तथा राजस्थान से हे और चार राज्यों के ४२ जिलों में २५ प्रतिशत बच्चे को टिके नहीं लगाए गए हे या उन बच्चो को आंशिक रूप से लगाए गए हे. भारत में टीको से वंचित या आंशिक टीकाकरण वाले करीब २५ प्रतिशत बच्चे इन चार राज्यों के ४२ जिल्लो में हे.

मिशन इंद्रधनुष अभियान के तहत पहले चरण में २०१ जिल्लो को सर्वोच्य प्राथमिकता देने का लक्ष्य तय किया हे और दूसरे चरण में २९७ जिलों को लक्ष्य बनाया गया हे. इस अभियान के पहले चरण का कार्यान्वयान २०१ उच्च प्राथमिकता वाले जिलों में ७ अप्रैल २०१५ पर विश्व स्वास्थय दिन से प्रारम्भ हुआ.

What is Mission Indradhanush (क्या हे मिशन इंद्रधनुष? )

  • मिशन इंद्रधनुष अभियान के दौरान दो वर्ष की आयु के हर एक बच्चे और उन गर्भवती माताओ तक पहुंचने का लक्ष्य रखा हे जो टीकाकरण प्रोग्राम के अंतर्गत यह सुविधा नहीं पा सके हे.
  • इस विशेष अभियान के तहत टीकाकरण पहुंच में सुधार के लिए चुने हुए जिल्लो पर राज्यों में दिसंबर २०१८ तक पूर्ण टीकाकरण से ९० प्रतिशत से ज्यादा लक्ष्य रखा गया हे.
  • मिशन इंद्रधनुष प्रोग्राम अक्तूबर २०१७ और जनवरी २०१८ के बीच हर महीने सर्वोच्या प्राथमिकता वाले जिल्लो और शहरो में १७३ जिल्लो ,१६ राज्यों के १२१ जिल्लो और १७ शहरो और ८ पूर्वोत्तर राज्यों के ५२ जिल्लो में निरंतर टीकाकरण का दौर जारी रहेगा.
  • इस कार्यक्रम ऐसे जिल्लो और शहरी क्षेत्रों में चलाया जायेगा , जहा टीकाकरण कम हुआ हे.
  • मिशन इंद्रधनुष अभियान क्षेत्र राष्ट्रीय सर्वेक्षण, स्वास्थ्य प्रबंध सुचना प्रणाली डेटा एव विश्व स्वास्थय संगठन से प्राप्त नम्बरो के आधार पर तय किये जायेगे.
  • एक जगाह से दूसरी जगाह पर प्रवास करने वाले शहरी झुग्गी -झोपड़ियों क्षेत्रों पर विशेष ध्यान दिया जायेगा , जहा पे टीकाकरण नहीं हुआ अगर हुआ हे तो बहोत कम मात्रा में हे.
  • इस प्रोग्राम के तहत शहरी बस्तियों और शहरो पर विशेष ध्यान केंद्रित किया जायेगा.
  • जमीनी स्तर पर कार्य करने वाले विभिन्न लोगो के तहत इस प्रोग्राम को प्रभावी ढंग से कार्यान्वित किया जायेगा.
  • जिल्ला, राज्य और केंद्रीय स्तर पर मिशन इंद्रधनुष अभियान प्रोग्राम की की नगरानी के लिए विशेष रणनीति बनाई गयी हे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *