National Smart Grid Mission Projects In India & Benefits

National Smart Grid Mission के बारे में जानकारी उपलब्ध है। इसके अलावा NSGM Yojana, National Smart Grid Mission Projects In India, NSGM Benefits के बारे में जाने। 

National Smart Grid Mission

हमारे गवर्नमेंट ने National Smart Grid Mission को 12 वी पंचवर्षीय योजनाओ के साथ अप्रूव किया गया था।

NSGM तीन स्तरों में कार्य करती है।

पहला स्तर, पावर मिनिस्टर के प्रमुख पद पर रहते NSGM के लिए गवर्निंग कॉउन्सिल स्थापित कि जाएगी। इस से जुड़े मंत्रालयों के सचिव स्तरों के अधिकारीओ को इस गवर्निंग कॉउन्सिल के मेम्बर बनाये जाएगे।

यह गवर्निंग कॉउन्सिल National Smart Grid Mission को लेके सभी पॉलिसी और कार्यक्रमों के लिए मंजूरी प्रदान करना है।

दूसरे स्तर पर, अधिकृत समिति रची जाएगी जो की पावर मिनिस्ट्री के सचिव इसका प्रमुखत्व करेंगे।

इस समिति में संबंधित कार्यालयों के जॉइंट सचिव कार्य करेंगे। इस आधिकारिक समिति का कार्य गवर्निंग कॉउन्सिल द्वारा मंजूरी दी गयी परियोजनाओ को लागू करवाना और उन योजनाओ को  स्वीकृत करना, निगरानी रखना और समीक्षा के कार्य करती है। 

आखिरी स्तर पर, एक सहायक समिति बनेगी जो की टेक्निकल समिति भी है। चेयरपर्सन इसके प्रमुख पद कार्य करेंगे। इसके अलावा इस समिति के मेंबर इंडस्ट्री और अकादमी स्तर के डायरेक्टर्स होंगे|

national smart grid mission wiki

इस समिति का कार्य आधिकारिक समिति को सपोर्ट देना है जो की तकनिकी पहलु और गाइडलाइन के बारे में सहायता प्रदान करेंगे| 

रोजींदी कार्यो के लिए National Smart Grid Mission के द्वारा NSGM प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट भी बनाया जाएगा। NPMU के डायरेक्टर बनने के लिए वह गवर्निंग कॉउन्सिल और आधिकारिक कमिटी का मेम्बर होना चाहिए।  इसके अलावा टेक्निकल कमिटी के मेम्बर का सचिव होना चाहिए।

NPMU इम्प्लीमेंटिंग एजेंसी है जो की गवर्निंग कॉउन्सिल और आधिकारिक समिति की गाइडेंस अनुसार देश में स्मार्ट ग्रिड गतिविधिओ को कार्यन्वित करेगी| 

प्रोजेक्ट के खर्चे के ३० प्रतिशत सब्सिडी NSGM के बजट से प्राप्त होगी और तालीम, कैपेसिटी बिल्डिंग के लिए और कस्टमर इंगेजमेंट जैसे कार्यो के लिए १०० प्रतिशत सब्सिडी अवेलेबल है|

National Smart Grid Mission Objectives

स्मार्ट ग्रिड टेक्नोलॉजी को विकसित करना

सभी ग्राहकों को अच्छी क्वालिटी की बिजली प्राप्त हो सके।

स्मार्ट ग्रिड नियामकों और उपयोगिता क्षमता में बढ़ावा करने के लिए।

राष्ट्रिय और आंतरराष्ट्रीय विकास भागीदार के साथ तकनिकी तालमेल, रिसर्च के लिए।

स्मार्ट ग्रिड सिस्टम के प्रति जागरूकता के लिए।

National Smart Grid Mission Benefits

National Smart Grid Mission तीन उपयोगकर्ताो को लाभ प्राप्त होता है। आइये नेशनल स्मार्ट ग्रिड बेनिफिट्स जाने| 

सिस्टम एसेट का महत्तम उपयोग हो पाता है।   

ट्रांसफर और डिस्ट्रीब्यूशन से होने वाला लोस कम हो जाता है।

बिजली की महत्तम मांग का अच्छे से मैनेजमेंट हो जाता है। 

एसेट का भी मैनेजमेंट अच्छे से हो जाता है। 

ग्रिड लाइन की विजिबिलिटी भी बढती है| 

ग्रिड को खुद से ठीक कर सकते है। 

नए तरीको से एकीकरण करना जाएगा। 

हर जगह पर बिजली पहूँचाना आसान हो जाएगा।

smart energy meter cost

पावर एबिलिटी बढ़ेगी।

बैकअप पावर लेने की जरुरत नहीं हॉगी। 

पावर क्वालिटी में बढ़ौतरी होगी।

कस्टमर सर्विस अच्छे से दे पाएंगे| 

स्मार्ट ग्रिड की वजह से देश के वातावरण में प्रदुषण कम हो जाएगा।

National Smart Grid Mission Phases

National Smart Grid Mission दो फेज में कार्यन्वित होगा| 

Phase – 1 

फेज -1 2015 से 2017 तक चलेगा| जिसके अंतर्गत कुछ कार्य किये जाएगी जैसे की, 

2015 से 2017 तक चलने वाले इस फेज में होने वाले कार्य

स्मार्ट मीटर और EMI लगवाना।

जहा पे भी ईकोनोमिकली जरुरी हो वहां के सबस्टेशन को आधुनिक तकनीकों से नया बनाया जाएगा।

मध्यम साइज्ड माइक्रोग्रिड्स विकसित की जाएगी| 

रूफ टॉप पर्व के रूप में जनरेशन का उपयोग किया जाएगा| 

ट्रांसफार्मर का रियल टाइम मॉनिटर करना बहेतर रहेगा।

हार्मोनिक फ़िल्टर और इसके अलावा और भी पावर की अच्छी क्वालिटी के लिए सिस्टम प्रोवाइड करने का प्रावधान है| 

ईवी के प्रसार समर्थन ईवी चर्जिंग सिस्टम बनायीं जाएगी। 

पहले फेज के लिए गवर्नमेंट ने NSGM और सभी प्रोजेक्ट के लिए 980 करोड़ रुपयों का बजट तय किया गया जिसमे से ३३८ करोड़ रुपयों का बजटरी सहायता प्रदान करेगी| 

smart grid pilot projects

Phase -2

सभी ग्राहक तक पावर की अच्छी क्वालिटी उपलब्ध करवाई जाएगी।

घाटा कम करना

ऑटोमेशन, माइक्रोग्रिड्स और अन्य इम्प्रूवमेन्ट्स के साथ स्मार्ट ग्रिड रोल आउट की जाएगी।

प्रोसूमर सक्षमता, डिमांड को देखते हुए AMI भी रोल आउट किये जाएगे।

डायनामिक तारीफ इम्प्लीमेंटेशन, DR प्रोग्राम्स, सोलर PV टैरिफ तंत्र यह सभी नीतिया कार्यरत की जाएगी।

हरित पावर और एनर्जी की कार्यदक्षता की रेनू किया जाएगा।

पावर सप्लाई और स्टोरेज के लिए इलेक्ट्रॉनिक चार्जिंग वाहन और स्टोरेज सिस्टम बनायीं जाएगी।

इस फेज के लिए गवर्नमेंट ने 990 करोड़ प्रदान किया है जिसमे 312 करोड़ बजटरी सपोर्ट प्रदान किया जाएगा।

Projects Under National Smart Grid Mission

AVVNL, Ajmer Project

यह एक टेस्ट पायलट प्रोजेक्ट है। इस प्रोजेक्ट के तहत 1000 कंस्यूमर को एडवांस्ड मीटर इंफ्रास्ट्रक्चर को स्मार्ट मीटर के साथ इम्प्लीमेंट किया जाएग।

APDCL, Assam Project

इस टेस्ट प्रोजेक्ट में 15000 से ज्यादा कंस्यूमर को एडवांस्ड मीटर फैसिलिटी प्रोवाइड की जाएगी जिसमे 90 MU की इनपुट एनर्जी होगी।

CESC, Mysore Project

मैसोर प्रोजेक्ट में कुल 21,428 उपभोक्ताओं को एडवांस्ड मीटर की टेक्नोलॉजी प्रदान की जाएगी जिसमे आवासीय, वाणिज्यिक, औद्योगिक और कृषि उपभोक्ता होंगे और इस पायलट प्रोजेक्ट में 151 mu इनपुट एनर्जी दी जाएगी| इस एरिया में 14 फीडर्स, 473 डिस्ट्रीब्यूशन ट्रांसफार्मर्स और 512 पंप सेट भी शामिल है।

HPSEB, Himachal pradesh Project

इस पायलट प्रोजेक्ट में 1251 उपभोक्ताओं को यह फैसिलिटी प्रदान की जाएगी|

PED, Panducherry Project

इस प्रोजेक्ट के तहत 34000 उपभोक्ताओं के लिए एडवांस्ड और स्मार्ट मीटर की फैसिलिटी प्रदान की जाएगी।

PSPCL, Punjab Project

पंजाब में इस पायलट योजना के तहत 2737 कंस्यूमर को यह फैसिलिटी प्रोवाइड की जाएगी। और यहाँ पे सभी घरेलु बिजली वपराशकर्ता है और यह 113 mu यूनिट बिजली यूज़ करते है|

TSECL, Tripura Project

यहाँ पे कुल 45,290 बिजली वपराशकर्ता है जब की यह एरिया आईटी इम्प्लीमेंटेशन और  सिस्टम की मजबूती के लिए कार्यान्वित किया जाएगा।

TSSPDCL Telangana Project

तेलंगाना में इस पायलट प्रोजेक्ट के तहत कुल 11,904 घरो में बिजली के स्मार्ट मीटर्स लगवाए जाएगी। इस क्षेत्र में भी IT इम्प्लीमेंटेशन और मजबूती के लिए प्रस्थापित की गयी है।

UHBVN, Haryana Project

हरयाणा में इस पायलट प्रोजेक्ट के चलते 11,000 घरो में एडवांस्ड मीटर लगाए जाएगे।

UGVCL, Gujarat Project

गुजरात में कुल 22,230 नरोदा विस्तार में यह मीटर्स शुरूआती तौर पर लगाए जाएगे। और कुछ कार्यक्षमता को बढ़ाने के लिए डिमांड राखी जाएगी जैसे की, लोड फोरकास्टिंग आदि।

challenges in smart grid implementation

WBSEDCL, West Bengal Project

वेस्ट बंगाल में 5265 घरेलू बिजली वापराश कर्ताओ को यह सुविधा प्रदान की जाएगी और जिनमे दो 11kv पावर के फीडर भी लगवाए जाएगे।

IIT, Kanpur Project

इस प्रोजेक्ट से स्मार्ट सिटी प्रणालिओं और R & D विभागों को स्मार्ट सिटी भविष्य में क्षमता प्रदर्शन का था। इस प्रोजेक्ट को तीन सबस्टेशन पे सबस्टेशन ऑटोमेशन और रेजिडेंशियल घरो में नयी सिस्टम इम्प्लीमेंट की जाएगी।

SGKC, Manesar Project

स्मार्ट ग्रिड नॉलेज सेंटर nsgm को तकनिकी रूप से सहायता करेंगे।

CED, Chandigadh Project

चंडीगढ़ में 30,000 रहेणांक और कमर्शियल यूजर को कवर करता है।

MSEDCL, Maharashtra Project (Amaravati)

इस प्रोजेक्ट में 1,43,000 यूजर को स्मार्ट मीटर प्रस्थापित किय जाएगे। जिसमे लोकल, कमर्शियल, इंडस्ट्रियल वपराशकर्ताो को यह सुविधा दी जाएगी।

MSEDCL, Maharashtra Project ( Congress Nagar)

इस प्रोजेक्ट में 1,25,000 ग्राहकों को यह सुविधा दी जाएगी जिसमे कुछ लोकल , वाणिज्यिक और इंडस्ट्रियल ग्राहकों को स्मार्ट मीटर की सुविधा दी जाएगी।

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *