सोलर चरखा मिशन के बारे मे संपूर्ण जानकारी प्राप्त करे।

Solar Charkha Mission 2019

Solar Charkha Mission पायलट प्रोजेक्ट २०१६ में प्रस्तुत किया है। Solar Charkha Mission Objectives, Implementation Criteria और Solar Charkha Mission Selection Criteria For Promotion Agency के बारे में जानिए।

Tractors के बारे मे जानकारी प्राप्त करने के लिए यहा CLICK करे।

solar charkha mission aim

Read More:

Solar Charkha Mission in Hindi

Solar Charkha Mission पायलट प्रोजेक्ट को 2016 में बिहार राज्य में प्रक्षेपित कीया गया था। इस पायलट प्रोजेक्ट की सफलता के आधार पर, भारत सरकार ने Solar Charkha Mission को संमति दी गयी है। 

बिहार में कार्यान्वित होने के बाद 27 जून 2018 में हमारे राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद ने इस योजना को प्रक्षेपित किया था।

Solar Charkha Mission के लिए भारत सरकार ने 550 करोड़ रुपये का बजट कार्यन्वित किया है। इस योजना को 2018-2020 तक चलाया जाएगा

MSME मंत्रालय Solar Charkha Mission को ग्राम्य उधोग में वर्गीकृत किया गया है। चरखा निष्णांतो के अनुसार 10 स्पिंडल वाला चरखा स्टैण्डर्ड है।

Solar Charkha Mission के तहत केंद्रीय गाँवों में Solar Charkha लगवाया जाएगा और उसके 8/10 किलोमीटर आसपास के गाँवों में में Solar Charkha Plant किये जाएगे। 

तदुपरांत, ऐसे समूह पर 200 से 2042 लोगो को लाभ भी प्राप्त होगा। हर स्पिनर को २ चरखे कार्य करने के लिए दिए जाएगे। हर एक समूह के लिए 1000 चरखा प्रदान किये जाएगे। हर एक समूह में 2042 जितने कारीगरों को रोजगारी प्राप्त होगी। 

Solar Charkha Mission Objectives

Solar Charkha Mission का मुख्य हेतु ग्रामीण क्षेत्रो में Solar Charkha ग्रामोद्योग से महिलाओ एवं आज की युवा पीढी के लिए रोजगारी प्रदान की जाएगी। 

Solar Charkha Mission के तहत ग्रामीण अर्थव्यवस्था को विकसित करना है, जिससे गाँवों से शहरी विस्तारो तरफ होने वाला स्थळांतर को कम किया जा सके। 

Solar Charkha Mission का हेतु ग्राम्य विस्तारो में कम खर्चे काम मिल सके, अभिनव टेक्नोलॉजी का लाभ प्राप्त हो और आसानी से रोजगारी भी प्राप्त कर सकेंगे।

Solar Charkha Mission Implementation

इस Solar Charkha Mission का कार्यान्वयन कैसे होगा वह देखे 

पहले, इस योजना के तहत सभी राज्यों के संभावित समूह की सूचि तैयार की जाएगी।

इन सूचि में से कार्यान्वयन एजेंसी सेलेक्ट करेगी की कौन से गाँवों में सोलर चरखा ग्रामोद्योग की स्थापना की जाएगी। इस स्टेप के लिए मौजूद खादी उद्योग भी मदद करेंगे।

solar charkha mission guidelines

Selection Criteria For Promotion Agency

मौजूदा खादी और ग्राम उद्योग संस्थान इस मिशन के अंतर्गत चरखा क्लस्टर की स्थापना के लिए आवेदन कर सकते है। 

पर उन संस्थानों को कुछ शर्तो पर खरा उतरना होगा। 

जैसे की, 

खादी और ग्राम उधोग संस्थान के पास पॉजिटिव बैलेंस शीट और एसेट होनी चाहिए। 

खादी और ग्राम उधोग संस्थान के पास कम से कम 200 कारीगर होने चाहिए। 

खादी और ग्राम उधोग संस्थान का पिछले तीन सालो का सेल्स टर्नओवर १ करोड़ और उससे ज्यादा होना चाहिए।

पिछले तीन सालो में कारीगरों की संख्या में बढ़ौतरी होनी चाहिए।

solar charkha mission launched in

Read More:

अगर कोई कंपनी नया चरखा समूह शुरू करना चाहता हो तो वह भी आवेदन कर सकता है पर उसके लिए शर्ते कुछ और होगी। 

उन्हें अपनी कंपनी का विज़न – मिशन प्रदर्शित करना होगा। 

डायरेक्टर वह भी जरुरी एक्सपीरियंस के साथ डायरेक्टर बोर्ड रचा जाना चाहिए।

मैनेजमेंट इनफार्मेशन सिस्टम भी अच्छी तरह से रची हुई होनी चाहिए। 

पिछले तीन वर्षो का इक्विटी और ऋण का आर्थिक पर्फोमन्स और प्रॉफिट की इनफार्मेशन होनी चाहिए 

जो भी पहलीबार ग्राम उद्योग से जुड़ना चाहता हो वह भी जो सकता है।

उसके लिए कुछ शर्तो का पालन करना होगा, जैसे की, 

सामाजिक और ग्रामीण उत्थान के लिए सर्वोच्च प्रतिबध्धता

स्केडुलेड कमर्शियल बैंक/ वित्तीय संस्था से फण्ड मिलने का कमिटमेंट

योग्य मैनेजमेंट इनफार्मेशन सिस्टम

कुछ दूसरे क्राइटेरिया गवर्निंग कौंसिल द्वारा तय किये गए हो वह।

यहा पर आपको Solar Charkha Mission के बारे मे जरूरी जानकारी से अवगत करने का प्रयत्न किया गया है। अगर आपको इस योजना के बारे मे ओर जानकारी चाहिए या आपको इस योजना से संबंधी कोई प्रश्न है तो आप हमे COMMENT के माध्यम से संपर्क कर सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *